Special Stories Paid

उज्जैन के नौजवान डॉक्टर ने कोरोना को हराया, महीने भर तक जिंदगी और मौत के बीच करता रहा संघर्ष

  • उज्जैन के आर्डी-गार्डी मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर इलाज करने के दौरान हुए थे संक्रमित
  • 6 महीने का बच्चे से एक-दो बार ही हुई मुलाकात
  • डिस्चार्ज होते ही देंगे अब पीजी की एक्जॉम

इंदौर, द टेलीप्रिंटर। उज्जैन के आर्डी-गार्डी मेडिकल कॉलेज में एक डॉक्टर कोरोना संक्रमितों के इलाज के दौरान खुद कोरोना की चपेट में आ गए। इलाज के दौरान कई बार डॉक्टर की हालत नाजुक हो गई थी। उनका बच पाना मुश्किल था। इंदौर के अरबिंदो अस्पताल में एक महीने तक संक्रमित डॉक्टर ज़िंदगी और मौत के बीच संघर्ष करता रहा। पीड़ित डॉक्टर का 6 महीने का बेटा है। डॉक्टर एक-दो बार ही अपने बेटे से मिले हैं। अंतत: एक महीने की लंबी लड़ाई के बाद डॉक्टर ने जिंदगी की जंग जीत ली।

अनुग्रह दुबे पेशे उज्जैन के आर्डी-गार्डी मेडिकल कॉलेज में रेसिडेंट डॉक्टर और पीजी थर्ड ईयर के स्टूडेंट हैं। छह महीने के बेटे, पत्नी और माता-पिता और भाई से दूर डॉ अनुग्रह विपरीत हालातों में अपने ड्यूटी पर डटे रहे। आरडी-गार्डी अस्पताल में कोरोनो मरीजों का कई दिनों तक इलाज करते रहे। इलाज करते-करते वे खुद संक्रमित हो गए। उन्हें उसी अस्पताल में भर्ती किया गया। साँस लेने में तकलीफ होने लगी। उनकी रिपोर्ट में कोरोना पॉजिटिव निकला। उन्हें गंभीर अवस्था में इलाज के लिए इंदौर के अरबिंदो अस्पताल लाया गया। यहां हालात इतने पेचीदा हो गए कि कुछ दिनों तक तो लगा शायद अनुग्रह का ज़िंदा बच पाना अब मुमकिन नहीं है उन्हें कोरोना संक्रमण के दौरान कई तरह की बीमारियों ने घेर लिया था। संक्रमण की वजह से फेफडे, हार्ट और शुगर जैसी बीमारियां शरीर में दस्तक दे चुकी थी। कई बार तो लगा कि ऑक्सीजन की नली अब कभी निकल पाएगी भी या नहीं।

डॉ अनुग्रह ग्वालियर के रहने वाले हैं। उज्जैन के आर्डी-गार्डी मेडिकल कॉलेज से एमडी (मेडिसिन) कर रहे हैं। उनका कहना है कि डॉक्टर वाकई भगवान होते हैं। यह उनके लिए नई ज़िंदगी है। वो अपनी ज़िंदगी की नई शुरुआत करेंगे। उनकी परीक्षा है। वे परीक्षा देकर फिर अपनी ड्यूटी निभाएंगे। उनकी माँ सुषमा कहतीं हैं कि यह दौर बहुत कठीन था। बेटे अनुग्रह ने बहुत हिम्मत से काम लिया। हम लोग बार-बार भावुक तो हो जाते थे लेकिन हिम्मत से कोरोना से जंग लड़ते रहे। अनुग्रह अपनी ड्यूटी का पक्का है वह अपने 6 महीने के बेटे से भी एक-दो बार ही मिला है। मुझे अपने बेटे पर गर्व है। भाई अभिनव कहते हैं कि भाभी और पूरे परिवार को संभालन के साथ उन्होंने भाई के इलाज में कोई कसर नहीं छोड़ी। वक्त रहने इलाज मिलने से उनके भाई को नया जीवन मिल गया। 

इंदौर के अरबिंदो अस्पताल से डॉ अनुग्रह गुरुवार को डिस्चार्ज हो गए। अरबिंदो अस्पताल से डॉ अनुग्रह की तरह करीब 3 हजार लोग कोरोना को हरा कर अपने घर लौट चुके हैं। अस्पताल के चेयरमेन डॉ विनोद भंडारी का कहना है कि डॉ अनुग्रह को बचाना उनके लिए एक चैलेंज था जिसे उन्होंने पूरा किया। इन्हें कोरोना के दौरान सभी तरह के कॉम्पलिकेशन हो गए थे। हमारे डॉक्टर्स और स्टॉफ ने भले ही मेहनत की हो लेकिन इनका बच पाना साक्षात ईश्वर के चमत्कार जैसा है।

Show More

Related Articles

Back to top button